एक दम सही पढ़ा आपने, टेस्ट में 3-0 से हारने के बाद लंकाई टीम को वनडे में भी मेहमान टीम के हाथों 5-0 से हार का सामना करना पड़ा था। इतिहास में यह पहली बार हुआ था कि, लंकाई टीम ने अपने घर में खेले गए वनडे सीरीज में एक भी मैच नहीं जीत हो।


बल्लेबाजी हो या गेंदबाजी दोनों ही जगह लंकाई टीम कमज़ोर ही नजर आई। भारतीय टीम का लंकाई दौरा करीब एक महीने का था। इस एक महीने लंबे दौरा का आज आखरी मैच भारत और श्रीलंका के बीच कोलंबो के प्रेमदासा मैदान पर खेला जाना है।

इस सीरीज में भारत ने इस मैदान पर एक टेस्ट और दो वनडे मैच खेले हैं, इन तीनों ही मैच में भारतीय टीम ने घरेलू टीम को चारों खाने चित कर दिया था। लिहाजा इस सीरीज में भारतीय टीम का प्रदर्शन इस मैदान पर शानदार रहा है।

जहां लंकाई टीम के लिए राहत की बात यह है कि आज ना तो टेस्ट मैच है और ना ही वनडे मैच है। यानि 6 सितम्बर को लंकाई टीम को भारतीय टीम के खिलाफ सीरीज का एकमात्र टी-20 मुकाबला खेलना है।


टी-20 खेल, क्रिकेट एक ऐसा फार्मेट है जिसमें कोई भी टीम किसी भी टीम को हरा सकती है। इस फार्मेट में कोई भी टीम जीत की गारंटी नहीं दे सकती है। लेकिन फिर भी हम यह बात संभावित रुप से कह सकते हैं कि 6 सितम्बर एक बार फिर टीम इंडिया ही मैच जीतेगी।

इन वजह से भारतीय टीम जीत सकती है यह टी-20 मैच :

प्रदर्शन के आधार पर :-

इसमें कोई दो राय नहीं है कि, भारतीय टीम इस समय जीत के रथ पर सवार है और 6 सितम्बर को जब भारतीय टीम घरेलू टीम के खिलाफ प्रेमदासा के मैदान में उतरेगी तो भारतीय टीम का जोश सातवें आसमान पर होगा। टीम के किसी भी खिलाड़ी के मन में हार का डर नहीं होगा।

यानि अगर सीधे शब्दों में कहें तो टीम इंडिया बेहतरीन फॉर्म में है जिससे पार पाना इस वक्त इस लंकाई टीम के बस में नहीं है। जहां एक तरफ सीरीज में भारतीय बल्लेबाजों का बल्ला जम का रन बरसा रहा था। तो वहीं लंकाई टीम का पूरे वनडे सीरीज में सबसे ज्यादा स्कोर 238 रन रहा। जो कि सीरीज के आखिरी वनडे मैच में बना।


हालांकि वह मैदान प्रेमदासा का ही मैदान है जहां 6 सितम्बर को भारत और लंकाई टीम के बीच सीरीज का एकमात्र टी 20 मुकाबला होना है। एकतरफ जहां विराट कोहली और रोहित शर्मा शतक बना रहे थे तो वहीं लंकाई टीम की तरफ से सीरीज में सबसे ज्यादा रन एंजेलो मैथ्यूज ने बनाए।


एंजेलो मैथ्यूज ने 5 मैचों में 190 रन बनाए और वनडे सीरीज में उनका बेस्ट था 70 रन, जो भारतीय टीम के प्रदर्शन के हिसाब से बेहद खराब दिख रहा है।

गेंदबाजी की बात करे तो एक तरफ जहां बुमरा ने सीरीज में 15 विकेट अपने नाम किए तो वहीं घरेलू खिलाड़ी अकिला धंनजय सीरीज में महज 9 विकेट ही अपने नाम करने में सफर रहे। जिसमे एक ही मैच में उनके नाम 6 विकेट रहे। यानि बाकि के चार मैचों में वह सिर्फ 3 विकेट ही ले सके।

आकड़ों के आधार पर :-

 

प्रदर्शन तो ऊपर नीचे होता रहता है। लेकिन एक चीज जो भारतीय टीम की जीत पर मोहर लगा देती है, वह है भारत और लंकाई टीम के बीच खेले गए टी-20 मैच के यह आंकड़े। यह बात उतनी है सच है कि आंकड़े से कभी मैदान में फतह नहीं मिलती। लेकिन आंकड़े से जीत पर मौहर या फिर जीत पर विश्वास और पक्का हो जाता है।

देखिए भारत और लंकाई टीम के बीच खेले गए टी-20 आंकड़ों को जिसमें लंकाई टीम ने भारत के खिलाफ अभी तक 10 टी-20 मैच खेले हैं जिसमें 6 मैच भारत के नाम रहे तो वहीं 4 मैच ही लंकाई टीम जीत सकी है। लिहाजा यह कहना गलत नहीं होगा कि टेस्ट और वनडे के बाद टी-20 में भी भारतीय टीम की जीत पक्की है।

LEAVE A REPLY